जनता के बीच GST: कुछ चीजें महंगी तो कुछ हुईं सस्ती, देखें ग्राउंड रिपोर्ट LIVE

शनिवार आधी रात को देश में जीएसटी लागू हो गया है. संसद के सेंट्रल हॉल में मेगा शो आयोजित कर देश में जीएसटी लागू किया गया. हालांकि कांग्रेस समेत कई विपक्षी दलों ने इस इवेंट का बायकॉट किया. विरोध का असर शनिवार सुबह भी देखा जा रहा है. इलाहाबाद में समाजवादी कार्यकर्ताओं ने जीएसटी के विरोध में ट्रेन रोकी, हालांकि समाजवादी पार्टी जीएसटी के मेगा शो में शामिल हुई थी. इसके अलावा कई नाराज व्यापारी प्रदर्शन आज फिर करेंगे.

कहीं खुशी-कहीं गम

जीएसटी को लेकर मुंबई में कहीं खुशी तो कहीं गम का माहौल देखने को मिल रहा है. जीएसटी के लागू होने से मुंबई के 5 टोल नाकों पर ऑक्ट्रॉई वसूलने वाले हजार से ज्यादा बीएमसी के कर्मचारी और ऑक्ट्रॉई एजेंट इससे काफी प्रभावित हुए हैं, क्योंकि जीएसटी आने के बाद अब उनको कुछ दूसरा काम करना पड़ेगा, जिससे वो काफी मायूस हैं. वहीं मुंबईकरों में काफी खुशी का माहौल देखने को मिला. देर रात तक लोगो ने मॉल में जमकर शॉपिंग की. टोल नाकों पर किसी भी प्रकार की अप्रिय घटना ना हो इसके लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम भी किए गए थे.

सपा ने रोकी ट्रेन

इलाहाबाद में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने जीएसटी के विरोध में ट्रेन रोक दी. बैनर-पोस्टर लिए समाजवादी कार्यकर्ताओं ने इलाहाबाद से लखनऊ जाने वाली गंगा गोमती ट्रेन को रोक दिया और जमकर नारेबाजी की. लगभग आधे घंटे तक ट्रेन को सीएमपी पुल पर रोके रखा इन कार्यकर्ताओ की मांग है कि केंद्र सरकार जीएसटी बिल को खत्म करे. वहीं जीएसटी लागू होने के बाद देश के कई हिस्सों में बीजेपी कार्यकर्ताओं ने आधी रात जश्न मनाया. सड़कों पर आतिशबाजी शुरू हो गई. दिल्ली, मुंबई, भोपाल, गुवाहाटी हर शहर में बीजेपी मुख्यालयों में उत्सव सा माहौल था.

देर रात तक खुले बाजार

आम लोगों के लिए जीएसटी की ये रात इसलिए खास रही कि कई जगहों पर बाजार खुले रहे. रात 12 बजे से शॉपिंग के लिए खास ऑफर दिए गए, जिसमें नए टैक्स रेट से बिलिंग हो रही थी. दिल्ली में बाजारों ने आधी रात का विशेष कारोबार किया. मेट्रो सिटी ही नहीं एनसीआर में जीएसटी को लेकर लोगों का उत्साह जबरदस्त था और लोग इस नए बदलाव का अनुभव लेना चाहते थे. वहीं कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने कहा कि जीएसटी अच्छा और सरल टैक्स है या और जटिल हो जाएगा ये समय बताएगा.

Source: http://aajtak.intoday.in

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered By Indic IME