बैंक में है खाता: तो यह खबर है आपके लिए, 30 अप्रैल तक कर लें ये काम

पटना [जेएनएन]। सरकार ने आपको और बेहतर सुविधा देने के लिए और कर चोरी को रोकने के लिए नई तरकीब निकाली है। अब कोई भी टैक्स की चोरी ना कर सके और इसके साथ ही दूसरे देशों में अर्जित संपत्ति से की जाने वाली आय पर जरूरी कर लगाया जा सके. इसके लिए अब आधार नंबर को बैंक के अकाउंट से लिंक करना सबके लिए जरूरी होगा। इससे पारदर्शिता आएगी।
आप अपने बैंक एकाउंट को जल्द-से-जल्द 30 अप्रैल तक आधार कार्ड से जरूर लिंक कर लें, एेसा नहीं करने पर आपका बैंक अकाउंट ब्लॉक हो सकता है। ये नियम उन लोगों के लिए जरूरी है जिन्होंने जुलाई, 2014 से अगस्त, 2015 के बीच अपना बैंक अकाउंट खोला है,वो अपना आधार नंबर और केवाईसी डिटेल्स 30 अप्रैल तक बैंकों में जमा करें।
अगर खाताधारक 30 अप्रैल तक डिटेल्स नहीं जमा करते हैं, तो बैंक और वित्तीय संस्थाएं उनका अकाउंट ब्लॉक कर सकते हैं। हालांकि, ब्लॉक करने के बाद डीटेल्स देने पर खाते फिर से चालू हो जाएंगे। यह प्रावधान उन्हीं खातों पर लागू होंगे जो एफएटीसीए नियमों के दायरे में आते हैं।
बैंक अॉफ इंडिया, पटना के बोरिंग रोड ब्रांच में कार्यरत एक अधिकारी ने बताया कि ट्रांसपेरेंसी लाने और टैक्स की चोरी को रोकने के लिए यह जरूरी है। आपका आधार नंबर आपके बैंक अकाउंट से जुड़ा होना चाहिए। इससे आपको सब्सिडी की सुविधाएं भी मिल सकेंगी। सरकार डायरेक्ट ट्रांसफर स्कीम का फायदा भी आपतक पहुंचा सकती है। इससे डिजिटल भुगतान में भी सुविधा मिलेगी।
उन्होंने बताया कि आम आदमी की तरह किसानों, मजदूरों, घरेलू महिलाओं और विद्यार्थियों सहित सभी लोगों को जल्द से जल्द अपने बैंक अकाउंट को आधार से लिंक कर लेना चाहिए। उन्होंने बताया कि इस संबंध में पूछताछ के लिए रोजाना कई लोग ब्रांच में आ रहे हैं और हमारे बताने के बाद अपना आधार नंबर लिंक करवा रहे हैं।
क्यों जरूरी है आधार नंबर बैंक अकाउंट से लिंक करना…
एफएटीसीए (FATCA) के तहत भारत और अमेरिका के बीच ऐसी संधि है, जिसके बाद ऐसे खाता धारकों के वित्तीय लेन-देन की जानकारी एक दूसरे से साझा की जाती है। भारत और अमेरिका ने इस संबंध में 31 अगस्त 2015 को एक संधि पर हस्ताक्षर किए थे। इसे विदेशी खाते कर क्रियान्वयन कानून का नाम दिया गया।
खाता धारक और निवेशकों को यह जरूरी हो गया है कि वह टैक्स लेने वाले देश, उस देश से मिला टिन नंबर, जन्मस्थान, नागरिकता आदि की जानकारी देनी होगी। आयकर विभाग ने कहा है कि यदि अकाउंट को ब्लॉक कर दिया गया तब खाता धारक निर्धारित प्रक्रिया पूरी करने के बाद ही अपने खाते से काम कर सकेगा।
यह भी पढें:
इससे पहले बैंकों को यह प्रक्रिया 31 अगस्त 2016 तक पूरे करने के निर्देश दिए गए थे। बाद में यह तारीख 30 अप्रैल तक के लिए बढ़ा दी गई थी। अब भी लोगों को उम्मीद थी कि एक बार फिर तारीख को बढ़ा दिया जाएगा। लेकिन अब आयकर विभाग ने साफ कर दिया है कि इस बार ऐसा नहीं होगा। ऐसे खाताधारकों को 30 अप्रैल तक यह काम पूरा करना ही होगा।
30 अप्रैल तक हर हाल में कर लें ये काम…..
-आयकर विभाग ने इस संबंध में कई वित्तीय संस्थानों को हो रही दिक्कतों के चले पहले यह तारीख 30 अप्रैल 2017 तक बढ़ाने की छूट दे दी थी।
-आयकर विभाग के सख्त रुख को देखते हुए म्यूचुअल फंड और अन्य वित्तीय संस्थानों ने अपने ग्राहकों को साफ कर दिया है कि वह नए नियमों के तहत अपने अपने स्व प्रमाणित करने वाले काम पूरा कर लें।
-अब आयकर विभाग ने सभी वित्तीय संस्थानों को यह निर्देश दे दिया है कि वह सभी इस काम में तत्परता दिखाएं। ताकि जरूरी काम पूरा हो सके।
-जानकारी के लिए बता दें कि यह संधि और नियम इसीलिए बनाया गया था ताकि दूसरे देशों में अर्जित संपत्ति से की जाने वाली आय पर जरूरी कर लगाया जा सके।
-आयकर विभाग ने एफएटीसीए के तहत आने वाले सभी खाता धारकों के खातों के बारे में जानकारी साझा करने के लिए बैंकों को पहले ही आदेश दे दिया है।

Source: http://m.jagran.com

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered By Indic IME