करोड़पति हुए जीरो बैलेंस खाताधारक

सोलन। नोटबंदी से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री जन-धन योजना के तहत बैंक खाते खोलने का जो पासा फेंका था, उसकी असलियत अब सामने आने लगी है। जिन लोगों की पहुंच बैंकों तक नहीं थी, जीरो बैलेंस के तहत खोले गए खातों से वे अब करोड़पति हो गए हैं।

हिमाचल की बात करें तो यहां विभिन्न बैंक में खोले गए इन खातों में 511.04 करोड़ की राशि जमा हो गई है। अब सवाल यह कि यह पैसा किसका है, जिसे इन खातों में खपाने का प्रयास किया गया।

ऐसा नहीं कि यह खाते सिर्फ उन्हीं लोगों ने खोले हैं, जिनका पहले बैंक में खाता नहीं था। बहुत से ऐसे लोगों ने भी योजना में खाते खुलवाए जिनके पहले से दो या तीन अकाउंट थे।

कुछ करोड़ रुपये तो इन खातों में पहले भी था, लेकिन जबसे नोटबंदी हुई तो करोड़ों रुपये इनमें आ बरसा। प्रदेश के विभिन्न जिलों में भिन्न-भिन्न बैंकों के माध्यम से प्रधानमंत्री जन-धन योजना के तहत कुल 9,65,475 खाते हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में इस योजना के तहत 8,43,839 बैंक खाते हैं, जबकि शहरी क्षेत्रों में 1,21,636 खाते हैं।

सात दिसंबर तक की रिपोर्ट के मुताबिक राज्य में इन खातों में से 8,38,657 में ही 511.04 करोड़ रुपये जमा हुए हैं, जबकि 1,26,818 एकाउंट में अब भी बैंलेंस जीरो ही है।

स्पष्ट है कि शून्य बैंक बैलेंस पर खुलने वाले कई खातों में अब भी रकम नहीं है। स्टेट लेवल बैंकर्स कमेटी के वरिष्ठ अधिकारियों का कहना था कि नोटबंदी के बाद इन खातों में तेजी से पैसे जमा हुए, लेकिन जबसे इनमें से निकासी की लिमिट तय हुई तो पैसा जमा करवाने में भी कमी देखी जा रही है।
Sources: c.mp.ucweb.com

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered By Indic IME